महक प्रवाह

 उल्लास से भरकर आई दिवाली, तम में भी उजियारा फैलाने आई दिवाली, सूनी आँखों में खुशियों का उजाला फैलाती आई

Read more