भारत की 9 सर्वाधिक शक्तिशाली महिला राजनेता

इतिहास साक्षी रहा है महिलाओं की असीम योग्यताओं का, जहां महिलाएं अपनी प्रकृति प्रदत्त जिम्मेदारी  को बखूबी निभाती रहीं हैं मातृत्व को सहर्ष अपनाकर जीवन चक्र को को निरंतरता देती रहीं हैं वहीँ समय समय पर अपनी प्रतिभाओं का प्रदर्शन कर अपने व्यक्तित्व की छाप  समाज पर छोड़ती रहीं हैं लेकिन राजनीतिक नेतृत्व पुरुषों का ही सहज रूप से स्वीकृत है.

लेकिन इतिहास साक्षी है मैरी एंटोनेट से लेकर क्वीन एलिजाबेथ तक, दुनिया भर में महिलाओं ने जब भी जरूरत पड़ी, राजनीतिक राजदंड को मजबूती से अपने हाथों में पकड़ा है. दुनिया भर की तरह भारत ने भी समय-समय पर ऐसी प्रभावशाली महिला राजनीतिक हस्तियों को देखा है. उनकी योजनाओं और राजनीतिक गुणों का लोगों लोहा माना है देश के विकास में उनके योगदान को कभी भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है.

यदि इतिहास की बात न भी करें तो भी भारत में वर्तमान राजनीति में बेहतर महिला राजनेता  हैं सरकार में भारत के तीन महत्वपूर्ण मंत्रालय रक्षा, विदेश और कपड़ा तीनों का महिलाएं ही नेतृत्व कर रहीं हैं .   

सोनिया गांधी

उन्हें किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है. अखिल भारतीय कांग्रेस की अध्यक्ष के रूप में सोनिया गांधी का कार्यकाल कांग्रेस के शताब्दी पुराने इतिहास में सबसे लंबा रहा है. देश में कांग्रेस को पुनर्जीवित करने में इनका बड़ा योगदान रहा है वर्तमान में विपक्ष के सबसे बड़े दल यूनाइटेड प्रोग्रेसिव अलायंस (UPA) की अध्यक्ष (चेयरपर्सन) भी हैं.

सुषमा स्वराज

सात बार संसद सदस्य और तीन बार विधान सभा सदस्य, भाजपा नेता, सुषमा स्वराज, वर्तमान में भारत की केंद्रीय विदेश मंत्री हैं. इंदिरा गांधी के बाद यह पद संभालने वाली वे दूसरी महिला हैं. एक माँ होने के साथ साथ वे प्रखर वक़्ता और भारतीय महिला के आदर्श व्यक्तित्व की स्वामिनी भी हैं विदेश में मुसीबतों में फंसे भारतीयों को देश में लाने के लिए उन्होनें अपनी पहचान बनाई है.

शीला दीक्षित

  दीक्षित परिवार की बहु के रूप में राजनीति में उतरने वालीं शीला दीक्षित 1998 से 2013 तक दिल्ली की मुख्यमंत्री थीं. वह कांग्रेस पार्टी की वरिष्ठ सदस्य हैं. दीक्षित ने राजधानी में लगातार तीन चुनावी जीत के लिए राष्ट्रीय पार्टी का नेतृत्व किया. वह 11 मार्च 2014 को केरल की राज्यपाल बनीं, हालांकि, उन्होंने 25 अगस्त 2014 को पद से इस्तीफा दे दिया. वर्तमान में भी वे सक्रिय राजनीति में हैं. 

ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल की पहली महिला मुख्यमंत्री, ममता बनर्जी, जिन्हें ममता दीदी के नाम से जाना जाता है, ने राज्य में 34 वर्षीय वाम मोर्चा सरकार का विरोध किया और  बंगाल की पहली वाम मोर्चा रहित सरकार बनाई. राजीव गांधी सरकार में वे देश की पहली महिला रेल मंत्री भी थीं. 1997 में, उन्होंने पश्चिम बंगाल में अपनी स्थिति को मजबूत करने के लिए तृणमूल कांग्रेस, एक विरोधी-वामपंथी पार्टी शुरू की.

मायावती

वर्तमान में, मायावती भारत में सबसे शक्तिशाली दलित नेता हैं. चार बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रहीं, वह जाटव जाति से हैं, जो अनुसूचित जाति और समुदायों के ऊपरी छोर पर हैं. सोशल इंजीनिरिंग का राजनीतिक फार्मूला देने वालीं वे पहली दलित नेता रहीं हैं यूपी के राजनीतिक स्पेक्ट्रम पर उनके शक्तिशाली प्रभाव को देश के सभी राजनीतिक नेताओं और आम जनता ने माना है.

वसुंधरा राजे

राजस्थान की पहली महिला मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया भारत की सबसे शक्तिशाली महिला राजनेताओं में से एक हैं. वसुंधरा राजे को उनकी मां विजयराजे सिंधिया ने सक्रिय राजनीति से परिचित कराया, जो एक प्रमुख भाजपा नेता थीं. वसुंधरा 1985 में राजस्थान विधानसभा के लिए चुनी गईं. लगातार दो बार राजस्थान मुख्यमंत्री पद पर रह चुकीं वसुंधरा वर्तमान में राजस्थान विधानसभा में विपक्ष की नेता हैं.

स्मृति ईरानी

स्मृति ईरानी एक भारतीय टेलीविज़न अभिनेत्री, महिला राजनीतिज्ञ और भारत सरकार के अंतर्गत केंद्रीय कपड़ा मंत्री हैं इससे पूर्व वे मानव संसाधन विकास मंत्री रह चुकी हैं. वे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से संबद्ध हैं वे अपने जोशीले भाषणों के लिए जानी जातीं हैं.

निर्मला सीतारमन

निर्मला सीतारमन वर्तमान में भारत की रक्षामंत्री हैं. सितंबर 2017 में रक्षा मंत्री बनने से पहले वे भारत की वाणिज्य और उद्योग (स्वतंत्र प्रभार) तथा वित्त व कारपोरेट मामलों की राज्य मंत्री रह चुकी हैं. वे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से संबद्ध हैं तथा पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता भी रह चुकी हैं. निर्मला सीतारमन इंदिरा गांधी के बाद भारत की दूसरी महिला रक्षा मंत्री हैं.

अगाथा संगमा

लोकसभा स्पीकर पी. ए. संगमा की बेटी, अगाथा संगमा पूर्व लोकसभा सदस्य हैं. ग्रामीण विकास मंत्रालय का कार्यभार संभालने के बाद वह सबसे कम उम्र की राज्य मंत्री बनीं. उन्होंने 2009 के संसदीय चुनावों में मेघालय के तोरा निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया.

3 thoughts on “भारत की 9 सर्वाधिक शक्तिशाली महिला राजनेता

    • March 8, 2019 at 2:46 pm
      Permalink

      सही है अगली बार आपकी सलाह पर अवश्य ध्यान देंगे

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *