2018 नया साल, भारत के नए सपने

साल 2018 , अपने साथ देश के लिए कई नए सपने  लेकर आया है.देश के राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक और तकनीकी क्षेत्र में इस साल नए सपने हैं. 

 देश के राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक और तकनीकी क्षेत्र में इस साल अभूतपूर्व परचम लहराएगा.इस वर्ष  मुस्लिम महिलाओं को एक बार में तीन तलाक की 1400 साल पुरानी प्रथा से कानूनी रूप से आजादी मिलने की उम्मीद रहेगी तो स्विस बैंकों में जमा भारतीयों के काले धन की जानकारी भी भारत को आसानी से मिलेगी.साथ ही इसरो के अहम अभियान अंतरिक्ष के क्षेत्र में देश को नई बुलंदियों तक पहुंचाएंगे .


 विधानसभा चुनाव आठ राज्यों में-

इस साल देश के आठ राज्यों में चुनाव होंगे.इनमें पूर्वोत्तर के चार राज्य त्रिपुरा, नगालैंड, मिजोरम व मेघालय समेत छत्तीसगढ़, कर्नाटक, मध्य प्रदेश और राजस्थान शामिल हैं.इन विधानसभा चुनावों में भाजपा और कांग्रेस के बीच अपनी साख बचाने की जंग हो सकती है.क्योंकि मौजूदा समय जिन पांच राज्यों (कर्नाटक, मेघालय, मिजोरम, पंजाब और केंद्र शासित पुडुचेरी) में कांग्रेस है, उनमें से तीन राज्यों में भी विधानसभा चुनाव हैं.वहीं भाजपा देश के 19 राज्यों में अपनी बहुमत और समर्थित सरकार चला रही है.साथ ही पूर्वोत्तर में अपना फैलाव करने की रणनीति पर काम कर रही है.ये चुनाव नतीजे 2019 के लोकसभा चुनावों की झलकी भी  होंगे.


अंतरिक्ष में लहराएगा परचम-

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) इस साल भारत को अंतरिक्ष के क्षेत्र में नई ऊंचाई तक ले जाएगा.इसकी शुरुआत जनवरी में ही एक साथ 29 उपग्रह लांच करने के साथ होगी.इसमें पृथ्वी पर नजर रखने वाला स्वदेशी उपग्रह कार्टोसैट-2 भी शामिल होगा.इन्हें विश्वसनीय रॉकेट पोलर सेटेलाइट लांच व्हीकल (पीएसएलवी) से छोड़ा जाएगा.2018 में ही 3,290 किग्रा वजनी चंद्रयान-2 भी लांच होगा.इससे चांद पर रोवर उतारा जाएगा.इसे बड़े प्रक्षेपण यान जीएसएलवी-एफ10 से लांच किया जाएगा.इसरो जीएसएलवी-एमके तृतीय के जरिये पहली बार इनसेट-3के नामक सेटेलाइट बस लांच करेगा.सेटेलाइट बस में एक बार में कई बड़े उपग्रह रखकर लांच किए जा सकते हैं.

काले धन पर लगेगी लगाम


 भारतीयों के विदेश में जमा काले धन का पता लगाने के लिए भारत ने  पिछले साल 21 दिसंबर को स्विट्जरलैंड के साथ करार किया.इसके जरिये इस साल पहली जनवरी से दोनों देशों के बीच कर संबंधी सूचनाओं का आदान प्रदान हो सकेगा.घोषणा पर दस्तखत के साथ स्विट्जरलैंड ने सूचनाओं के स्वत: आदान-प्रदान के वैश्विक मानदंडों को पूरा कर लिया है.वहीं भारत ने अपनी ओर से आंकड़ों की गोपनीयता का वादा किया है.स्विट्जरलैंड से भारतीयों के काले धन के बारे में सूचनाएं मिलने से देश में इस पर लगाम लगाई जा सकेगी.काले धन की कमर तोड़ने की दिशा में यह एक अहम कदम होगा .


मुस्लिम महिलाओं को अधिकार-

एक साथ तीन तलाक (तलाक-ए-बिद्दत) को गैरकानूनी ठहराने वाला मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक, 2017 पिछले साल 28 दिसंबर को लोकसभा में पारित हो गया है.इस साल राज्यसभा से पारित होने के बाद यह कानून बन सकता है.इससे 1,400 साल पुरानी प्रथा समाप्त हो जाएगी.यह सख्त कानून जाहिर तौर पर एक अहम राजनीतिक मुद्दा हो सकता है.सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को गैर कानूनी करार दिया है.फिर भी ऐसी घटनाएं हो रही हैं.यह कानून जम्मू-कश्मीर को छोड़कर पूरे देश में लागू होगा.कानून लागू होने के बाद एक बार में तीन तलाक गैरकानूनी होगा.इसमें दोषी को तीन साल तक की कैद और जुर्माने की सजा का प्रावधान किया गया है.पीड़ित महिला मजिस्ट्रेट की अदालत में गुजारा भत्ता और नाबालिग बच्चों की कस्टडी मांग सकती है.


राम जन्मभूमि विवाद –

आठ फरवरी को सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद की सुनवाई होगी.2010 में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने विवादित जमीन को तीन बराबर हिस्सों में यानी रामलला विराजमान, निर्मोही अखाड़ा और सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड में बांटने का आदेश दिया.इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है.सुप्रीम कोर्ट की तीन जजों की पीठ इस मामले की सुनवाई  कर रही है.इस साल फैसले पर लोगों की निगाहें होंगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *