हार्दिक पटेल ने आज शाम अमरोली की खाम्बा तहसील में विशाल सभा को संबोधित किया : नरेंद्र मोदी पर किये प्रहार

हार्दिक पटेल
हार्दिक पटेल


पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल ने आज शुक्रवार शाम अमरोली जिल्ला में खाम्बा तहसील में  विशाल सभा को संबोधित किया सभा में हज़ारों की संख्या में जनसमुदाय उपस्थित था इस दौरान हार्दिक पटेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर शाब्दिक प्रहार किए और उन्हें शेर नहीं बल्कि बिल्ली और नपुंसक जैसे शब्दों से नवाजा. 


अपने भाषण की शुरुआत में ही उन्होनें शब्दों के प्रहार करते हुए व्यंग किया और  कहा कि तुम्हें कपास का  १२०० रुपया भाव नहीं मिला इसके लिए बधाई. खेतों में पानी नहीं, लेकिन इकोज़ोन बन रहा है इसके लिए बधाई. खाम्बा तहसील है लेकिन यहां एक ढंग का बस स्टैंड नहीं इसके लिए बधाई.उन्होनें कहा जब से अमरोली में प्रवेश किया है यही चर्चा है कि सोने जैसे जिले को भाजपा ने बर्बाद कर दिया है. इस जिले को यदि नर्मदा या कल्पसर का पानी मिला होता तो यहां के लोगों को सूरत नहीं जाना पड़ता. अमरोली जिले से मंत्री भी बने लेकिन किसानों के मुद्दे के लिए कोई आगे नहीं आता है

 प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी जब अमरोली मार्केट यार्ड का उद्धघाटन करने आये तब भाजपा ने  नारा दिया “देखो  देखो कौन आया,  गुजरात का शेर आया”  लेकिन बाद में मालूम पड़ा कि ये तो बिल्ली  है. लोकसभा चुनावों के दौरान मोदी ने वादा किया था कि भाजपा सरकार आएगी तो किसानों  को कपास का भाव 1500 रूपये  दिया जायगा लेकिन किसानों को भाव मिला 820 रूपये . लेकिन ये मोदी की नहीं तुम्हारी और हमारी गलती है जो ऐसे नंपुसंक को चुना. उन्होनें कहा  यदि अभी भी हम नहीं समझे तो गाँव खाली करके सूरत जाना पड़ेगा. ये आरक्षण इसीलिए माँगा  कि गाँव खाली करके हमें शहरों में न जाना पड़े.
 हार्दिक पटेल ने कहा की आज इस देश में सबसे ज्यादा दुखी किसान हैं गुजरात में अमरोली जिले के किसान सबसे ज्यादा  आत्महत्या कर रहे हैं. हार्दिक पटेल  ने कहा की प्रधानमंत्री मार्केट यार्ड  का उद्धघाटन करके यहाँ  के चुने हुए लोगों  की बेज्जती  कर रहे थे ये कार्य तो यहाँ के पार्षद या जिला प्रमुख भी कर सकते थे. उन्होंने कहा कि यदि यहां से मेरे माता-पिता भी भाजपा की तरफ से चुनाव लड़ें तो भी उन्हें वोट नहीं देना है. उन्होनें कहा की किसान सुखी रहे, पाटीदारों को आरक्षण मिले, यही मेरी इच्छा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *