सरकारी बीमा योजनाएं

जीवन सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार द्वारा कई बीमा योजनाएं शुरू की गई हैं जोकि मृत्यु अथवा दुर्घटना के समय आश्रितों को आर्थिक सहायता प्रदान करती हैं. १५ अगस्त २०१४ से प्रारंभ की गई प्रधानमंत्री जन धन योजना के अंतर्गत धारकों को 30,000 रूपए की न्यृनतम राशि का जीवन बीमा तथा एक लाख का एक्सीडेंटल बीमा दिया जाता है. इस योजना के अंतर्गत खाता धारक 5000 रूपए तक की राशि ऋण के रूप में प्रत्येक छह माह के अंतराल पर 5000 रूपए तक का ऋण ले सकता है. इस योजना के तहत खाता बिना किसी राशि को दिए खोला जा सकता है जिसे जीरो बैलेंस सुविधा कहा जाता है. इसमें एटीएम कार्ड की तरह ही रूपए कार्ड की सुविधा भी दी गई है. इस योजना के तहत 10 वर्ष से अधिक आयु का बालक/बालिका द्वारा भी खाता खोला जा सकता है जिसे उसके अभिभावक संचालित कर सकेंगे.

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना एक प्रकार की जीवन बीमा पॉलिसी है जिसके अंतर्गत किसी भी कारण से धारक की मृत्यु होने पर बीमा राशि मिलने का प्रावधान है. इस योजना के तहत धारक की मृत्यु होने पर उसके आश्रितों को दो लाख रूपए की राशि मिलेगी. इसे प्रतिवर्ष 31 मई से पहले करवाना होगा जिसका प्रीमियम शुल्क 330 रूपए प्रति वर्ष रखा गया है. इस योजना का लाभ 18 से 50 वर्ष तक की आयु वाला व्यक्ति उठा सकता है. इसके लिए आधार कार्ड होना आवश्यक है.

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना एक प्रकार की दुर्घटना बीमा पॉलिसी है जिसके तहत दुर्घटना के समय मृत्यु अथवा अपंग होने पर बीमा की राशि के लिए क्लेम किया जा सकता है. इसके तहत दो लाख रूपए की तथा आंशिक अपंग होने पर एक लाख रूपए की राशि दी जाती है. इसके तहत 18 से 70 वर्ष तक का व्यक्ति इस योजना का लाभ उठा सकता है. इसके लिए आधार कार्ड का होना आवश्यक है. इसके तहत प्रतिवर्ष जून से पहले इस खाते को रिन्यू करवाना होगा.

इसके लिए धारक को प्रतिवर्ष 12 रूपए की राशि देनी होगी.

अटल पेंशन योजना कम लागत पर दी जाने वाली पेंशन योजना है. यह पेंशन असंगठित एवं छोटे क्षेत्रों में कार्य करने वाले लोगों को आर्थिक रूप से सुरक्षित करने हेतु प्रारंभ की गई है. यह साठ वर्ष से अधिक आयु के लोगों के लिए की जाने वाली आर्थिक सहायता है इसे 18 वर्ष से 40 वर्ष की आयु तक ले सकते हैं. इसमें आधार कार्ड आवश्यक है.

इस योजना के अंतर्गत धारक को 1000 रूपए से 5000 रूपए तक की पेंशन राशि प्रतिमाह देय होगी जोकि धारक के खाते में योगदान पर निर्भर करेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *