रंग में भंग :- होली के रंग बरते सावधानी

रंग में भंग :- होली के रंग बरते सावधानी

रंगों का त्योहार होली, मौज मस्ती का त्योहार है लेकिन कैमिकल और मिलावटी रंग इस त्योहार का मजा किरकिरा कर देतें हैं. जिनके प्रयोग से कई प्रकार की एलर्जी और हेल्थ प्रॉब्लम हो सकती हैं जो कि होली को बदरंग कर देती हैं. इस होली आप रंगों का मजा पूरी तरह उठा सकें इसके लिए कुछ सावधानियां बरतें , जानिए लेख से .
 चंग की थाप पर बजते होली के गीत फागुन के आने की सूचना देते हैं. जाती हुई ठंड और आती हुई गर्मी का स्वागत फागुन माह में आने वाली होली के साथ किया जाता है. नई फसल का स्वागत और दिवाली से होली के बीच के समय की सफाई होली दहन के रूप में मनाई जाती है. होली की मस्ती में पूरा वातावरण रंगीन हो जाता है. बच्चों से लेकर बूढ़े तक इस मस्ती में डूब जाते हैं. चुहलबाजी और छेड़छाड़ का मजा इस त्योहार पर जमकर लिया जाता है.

30-35 वर्ष पूर्व होली खेलने के लिए रंग प्राकृतिक रूप से बनाया जाता था जो कि त्वचा के लिए लाभदायक होते थे और किसी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंचाते थे. टेसू और हरसिंगार के फूलों को मिट्टी के बर्तनों में रात भर भिगो दिया जाता था और अगले दिन उन रंगों से होली खेली जाती थी.समय के साथ लोगों की प्राथमिकताएं बदल गई हैं. आज लोगों के पास न तो इतना समय है न ही घरों में इस प्रकार रंगों को बनाने की जगह और सुविधा. इसलिए बिना वक्त गंवाए लोग बाजार से रंग खरीद लेते हैं. तरह तरह के रंग बाजार में उपलब्ध हैं. जरूरत है रंग खरीदते समय थोड़ी सी सावधानी बरतने की. जल्दबाजी में रेग न खरीदें, उनका चयन देखभाल कर करें.सिर्फ ये न देखें कि वे रंग चटख और असरदार है ये भी देखें कि वे रंग कैमिकल व सीसा युक्त तो नहीं हैं. इस प्रकार के रंगों का प्रयोग करने का सीधा असर त्वचा पर पड़ता है.

हर्बल रंगों का प्रयोग करें

सीनियर फिजिशियन डॉ दीपा शाह बताती हैं जो रंग या गुलाल ज्यादा चमकदार नजर आता है उसमें कैमिकल ज्यादा मात्रा में मौजूद होता है. ऐसी मिलावट असली रंग की मात्रा कम करने के लिए की जाती है. आयुर्वेदिक चिकित्सक दीनानाथ गुप्ता बताते हैं एक समय था जब सिंधाड़े के आटे से गुलाल बनाया जाता था. आज तो घटिया अरारोट के अलावा अबरक पीस कर मिला दिया जाता है ताकि वह चमकीला लगे.

कैमिकल रंगों में पेंट व सीसा भी मिलाया जाता है , जिससे त्वचा पर बुरा असर पड़ता है.

कैमिकल रंगों में हरे व लाल रंग रंग में सीसा मिलाया जाता है जो कि आंखों के लिए खतरनाक होता है यह त्वचा के साथ सेहत के लिए भी नुकसानदायक है यदि यह मुंह में चला जाए तो पेट के लिए हानिकारक है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *