पारंपरिक तिल के लड्डू

गुलाबी ठंड का जनवरी का महीना और स्वाद का अनोखा संगम है. साथ में आता है मकर संक्रांति अर्थात उत्तरायण का त्योहार. ऐसे में आपके लिए महक लाई है मकर संक्रांति पर बनने वाले पारंपरिक तिल के लडडुओं को बनाने की विधि साधना गुप्ता की रसोई से-

तिल के फायदे

सर्दियों के मौसम में तिल खाने से शरीर को ऊर्जा मिलती है और शरीर सक्रिय रहता है.
तिल में कई प्रकार के प्रोटीन, कैल्शियम, बी कॉम्पलैक्स और कार्बोहाइड्रेट जैसे तत्व पाए जाते हैं.
तिल के सेवन से तनाव दूर होता है और मानसिक दुर्बलता नहीं होती है.
तिल का नियमित सेवन बवासीर से राहत दिलाता है.
तिल के तेल से नियमित मालिश करने से ब्लड सर्कुलेशन की प्रक्रिया सही रहती है.
बच्चों को काले तिल व गुड़ का लड्डू बनाकर खिलाने से सोते समय बिस्तर गीला करने की समस्या का समाधान हो जाता है.

सामग्री
तिल सफेद १०० ग्राम १ कप
गुड़ २०० ग्राम १.१/२ कप
देशी घी २ छोटी चम्मच
पानी २ छोटी चम्मच
बादाम, काजू बारीक कटे हुए १०-१०

विधि
सूखी कढ़ाही में तिल को भून कर अलग रख दें.
कढा़ही में गुड़ को धीमी आंच पर दो चम्मच पानी के साथ पिघलाएं.
जब गुड़ उबलने लगे तो उसमें देशी घी डालकर मिक्स करें और आंच बंद कर दें.
अब इसमें भुने हुए तिल, बादाम व काजू मिला दें.
हल्का ठंडा होने पर हाथ में चिकनाई लगा कर छोटे छोटे आकार के गोल लडडू बना लें.
साधना गुप्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *