‘पद्मावती’ ऐतिहासिक नहीं- जावेद अख्तर



पद्मावतीऐतिहासिक नहीं- जावेद अख्तर

मशहूर गीतकार, लेखक और शायर जावेद अख्तर ने पद्मावती फिल्म के सन्दर्भ में अपने विचारों को व्यक्त किया है जावेद अख्तर ने कहा  है कि, ‘पद्मावतीकी कहानी सही मायनों में ऐतिहासिक है ही नहीं. वो मानते हैं कि पद्मावतीकी कहानी उतनी ही नकली है जितनी कि सलीम और अनारकली की कहानी. जिसे लेकर भारतीय सिने जगत दर्शकों को दो दो बेमिसाल फिल्में दे चुका है एक अनारकली और दूसरी मुग़ले आज़म. जो की आज भी भारतीय सिनेमा की सबसे बेहतर फिल्मों में से एक हैं .

एक टीवी शो के विवाद मंच का जिक्र करते हुए जावेद अख्तर ने कहा कि, ‘मैं टीवी पर इतिहास के एक प्रोफेसर को सुन रहा था. वो कह रहे थे कि पद्मावतीकी रचना और अलाउद्दीन खिलजी के शासनकाल में तकरीबन 200-250 साल का अंतर था. और गौर करने वाली बात ये है कि इतने सालों में जायसी ने पद्मावतीलिखी ही नहीं. दूर-दूर तक रानी पद्मावती का जिक्र तक नहीं.

 फिर ऐसी बात पर आज विवाद क्यों जिसका वर्तमान से कोई सम्बन्ध ही नहीं है एक कलाकृति , एक फिल्म कल्पना पर आधारित होती है वास्तविकता पर नहीं.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *