दोस्ती एक अनोखा अहसास


दोस्ती एक अनोखा अहसास देने वाला शब्द . इस शब्द के साथ ही खुशबु आती है एक मीठे प्यारे रिश्ते की. दुनिया के जितने रिश्ते हैं उनमें दोस्ती की सबसे अलग अहमियत है वह इसलिए क्यूंकि आप अपने दोस्तों को स्वयं चुनते हैं दोस्ती ही एक ऐसा रिश्ता है जिसमें अलग अलग पृष्ठभूमि के लोगों में भी अपनापन रहता है जैसे जैसे इस रिश्ते की आयु बढ़ती है यह रिश्ता ज्यादा मजबूत होता जाता है दोस्ती एक अनोखा अहसास है दोस्ती हर आयु के लोगों की जरूरत होती है यह जीवन में आपका नजरिया स्वस्थ रखने में, आपको खुशमिजाज रखने में एक अहम् भूमिका निभाती है. कुछ चुनिंदा दोस्त तो ऐसे होते हैं जो पूरे जीवन प्रत्येक परिस्थिति में आपके हमकदम बने रहते हैं.

दोस्ती निभाएं 


दोस्ती सिर्फ साथ में मौज मजे करने के लिए नहीं होती है सच्चे दोस्त की पहचान दुःख और मुसीबत के समय होती है सच्चा और अच्छा दोस्त हर परिस्थिति में सामान व्यवहार रखता है आप बेहतर दोस्ती निभाना चाहते हैं तो दोस्त की किसी भी प्रकार की मुसीबत में जितना और जिस प्रकार का सहयोग कर सकें करनी चाहिए.

बच्चों से सीखें 



छोटे छोटे बच्चे दोस्ती बहुत अच्छी तरह से निभाते हैं. स्कूल हो या घर, अपने खिलौनों से लेकर पेन , पेंसिल , रबर और नोटबुक तक जरूरत होने पर तुरंत अपने दोस्तों को दे देते हैं यहां तक की यदि क्लॉस में टीचर एक को डांटे तो दूसरा भी उदास हो जाता है.

लम्बी आयु की दोस्ती का चुनाव 

कॉलेज लाइफ में जो दोस्ती होती है वह लम्बी आयु की हो सकती है इस आयु के दोस्त एक जैसी पसंद और शौक वाले होते हैं लेकिन जरूरी है की यहां दोस्तों के चुनाव में सावधानी बरती जाए. दोस्त ऐसे हों जो जीवन के प्रति सकारात्मक नज़रिया रखते हों जिनकी दोस्ती में आप ख़ुशी महसूस करें और जो समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी महसूस करते हों. जिनमें कुछ कर दिखाने की चाहत हो जिनके शौक आपके शौक से मिलते जुलते हों.

१९८५ में ग्रेजुएट दो दोस्तों राजेंद्र और विजय ने अपनी दोस्ती को एक दिशा देते हुए जैसी संस्था शुरू की जो उनकी गहरी दोस्ती की वजह से सफलता के नए कीर्तिमान स्थापित करती गई

फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग ने भी फेसबुक की स्थापना अपने दोस्तों के साथ ही की, ऐसे बहुत से उदाहरण इस दुनिया में हैं, जहां दोस्ती के कारण लोगों ने सफलता के नए कीर्तिमान बनाये हैं

यूँ तो दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है जिसमें किसी तरह का स्वार्थ नहीं होता है किसी तरह का लेनदेन नहीं होता है इस रिश्ते की सबसे महत्वपूर्ण और एकमात्र शर्त है भरोसा , विश्वास , धोखा न देना. आप अपने दोस्त से जहां तक हो सके रिश्ते में पारदर्शिता रखिये. उसे ये अहसास रहे की आप और उसके बीच में कोई दुराव छिपाव नहीं है.

संपर्क रखें 

अपने सभी दोस्तों से लगातार सम्पर्क में रहिये अभी तो यह बहुत आसान हो चुका है सोशल मीडिया का इस के लिए उपयोग कीजिये पुराने दोस्तों को ढूंढिए और अपनी यादें ताज़ा कीजिये. उन दिनों की दोस्तों से बातें किया करें. इससे इस रिश्ते में मज़बूती बनी रहती है.

साथ समय गुज़ारिए

एक दूसरे के साथ समय गुज़ारिए. दोस्तों की परेशानियों को समझने की कोशिश कीजिए. इस रिश्ते में हालांकि लेन देन नहीं होता है लेकिन समय समय पर अपने दोस्तों को उनकी पसंद और जरुरत के हिसाब से उपहार दें, इससे दोस्ती में अपनेपन का अहसास बना रहता है. निःस्वार्थ भाव से दोस्तों की मदद करें. दोस्ती में कभी भी आपकी वजह से दोस्त को नीचा देखना पड़े या वह किसी मुसीबत में न फंसे इसका आपको ध्यान रखना चाहिए.

ख्याल रखना

दोस्तों को अनावश्यक सलाह भी न दें ध्यान रखें सलाह और दबाव में में बहुत बारीक सी रेखा होती है उसकी इच्छा और अनिच्छा का आपको सम्मान करना चाहिए. आपकी दोस्ती की वजह से उसके पारिवारिक जीवन में दरार न आये इसका भी आपको ख्याल रखना होगा

एक ऐसा रिश्ता जिसमें सुख दुःख साझी होते हैं दोस्ती एक अनोखा अहसास है अपने सभी ग़मों को तकलीफों को एक दूसरे से कहा जा सकता है दोस्ती एक अनोखा अहसास है तो इस बार के फ्रेंडशिप डे को यादगार बनाइये अपने दोस्त को एक प्यारा सा उपहार दीजिये और उसके चेहरे पर एक मुस्कान लाइए .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *