गणेश उत्सव समिती

गणेश उत्सव के दौरान उत्सव को सही और शांति पूर्वक संपन्न करने के लिए प्रशासन और सामाजिक संस्थाएं मिलकर गणेश उत्सव समिती का गठन करते हैं जो की गणेश उत्सव को संचालित करने के लिए नियम बनाती है और उनका शांति पूर्वक पालन हो सके इसकी व्यवस्था देखती है गणेश उत्सव समिती के अध्यक्ष से महक प्रतिनिधि अविनाश मिश्रा ने विशेष मुलाकात की –

आप अपने बारे में पाठकों को कुछ जानकारी दें ?

मेरा नाम हीनल वानवाला है मैंसूरत गणेश समिती का सदस्य और अडाजण समिती का अध्यक्ष हूँ इस विस्तार के सभी गणेश उत्सव स्थलों की देखरेख मेरे जिम्मे है पिछले 11 वर्षों से मैं इस जिम्मेदारी को पूरी कर रहा हूँ.

समिती के बारे में बताएं ?

समिती को बने हुए तीस वर्ष हो चुके हैं इस समिति के कुल नौ दल हैं जिनमें अडाजण एक है इसका मुख्य कार्यालय हिन्दू मिलन मंदिर सोनी फड़िया, भागल में है जिसके अध्यक्ष अनिल भाई बिस्किट वाला हैं.

समिती की गणेशउत्सव में भूमिका के बारे में बताएं?

पुलिस के साथ मिलकर गणेश स्थापना और विसर्जन के समय लोगों को सुरक्षा प्रदान करना, शांति पूर्वक कार्य संपन्न हो ऐसी व्यवस्था करना, धर्म के प्रति लोगों में वैज्ञानिक जागरूकता लाना, सभी धार्मिक संगठनों को एक मंच पर लाना,अपने विस्तार में आये गणेश पांडालों को आयुक्त कार्यालय से न्यूनतम शुल्क पर परमिट ला कर देना बचे, हुए धन से पिछड़े लोगों की सहायता करना, विसर्जन के लिए स्थल तैयार करना, नावों की व्यवस्था करना ,सहायक लोगों का दल तैयार करना , विसर्जक दल के सदस्यों को तैयार करना.

गणेश पंडालों से आप किस प्रकार जुड़े रहते हैं ?

इसके लिए वायरलेस फ़ोन की सहायता लेते हैं ,किसी भी आपात परिस्थिति के लिए आपातकालीन वैन , आपातकालीन सुविधयों की तैयारी रहती है.

विसर्जन की क्या प्रक्रिया है ?

विसर्जन के लिए सबसे पहले अपना परमिट नम्बर बताना पड़ता है फिर 250 रूपये प्रति फुट केअनुसार मूर्ति की लंबाई का शुल्क देना पड़ता है.

इस वर्ष हम स्वच्छता अभियान और बेटी बचाओ ,बेटी पढ़ाओ आंदोलन का भी समिती की ओर से प्रचार कर रहे हैं इसके लिए कई प्रतिस्पर्धाएं समिती व सामाजिक संगठनों की सहायता व मनपा के सहयोग से भी कई प्रतिस्पर्धाएं रखी गयी हैं.

जानकारी के लिए धन्यवाद के साथ हमने उनसे विदा ली.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *